Monday, 4 July 2011

दुसरो के जीना

                                  जी तो लेते हो ,खुद के लिए 
                              जी कर देखा कभी दुसरो के लिए 


                               अपनी ख्वाहिशो को करते हुए पूरी 
                                     जिंदगी निकल जाती है 
                      ख्वाहिशे नहीं हो पाती पूरी मौत आ जाती है 

                               कभी देखा है हंस के जोड़े को 
                              जीते है वोह एक दुसरो के लिए 
                           कुछ तो सीखो उन पंछी के जोड़ो से 
                                जो जीते हो खुद के लिए 
                               एक बार जी लो दुसरो के लिए 
                                    जिंदगी बदल जाएगी 
                         आत्मा की नजर में बन जाओगे हीरो 
                             जिंदगी खुद में खुद सुधर जाएगी 
------------------------------------------------------------------------------------------
यहाँ पर शायद बहुत सी गलतिया नजर आये पर शब्दों  पर न जाकर भावनाओ को समछे 
------------------------------------------------------------------------------------------
लेखक -- दीपक कुमार < दिल की  जुबान >
-----------------------------------------------------------------------------------------
अगर आप लोगो को यह लेख पसंद आया रहे है तो समर्थक बनिए 
-----------------------------------------------------------------------------------------   
                                  हमें हमारी गलतियो से अवगत कराये 
------------------------------------------------------------------------------------------

2 comments:

  1. एक बार जी लो दुसरो के लिए
    जिंदगी बदल जाएगी
    आत्मा की नजर में बन जाओगे हीरो
    जिंदगी खुद में खुद सुधर जाएगी
    aapki ye bat utar jaye agar logon ke dil me to samjho sari dunia sudhar jayegi,bahut sundar bhavabhivyakti.badhai.

    ReplyDelete
  2. सुन्दर सार्थक सन्देश। बधाई।

    ReplyDelete