Sunday, 26 March 2017

प्यार की बात

शब्द के बाण वो चलाते गये ।
उनकी इस अदा पर हम मुस्कुराते रहे ॥
कैसे हम उनकी तौहिन कर देते ।
जब बिना बताये हम उन पर बेपनाह प्यार लुटाते रहे ॥


No comments:

Post a Comment