Friday, 3 March 2017

सोच

  • लोग अक्सर यही सोचते है वो हमारे बारे मे अच्छा नही सोचते तो हम क्यो उनके बारे मे सोचे लेकिन 
  • आप ये भूल जाते है. कि मधुमक्खिया सहद ये सोच कर नही बनाती कि ये सहद कोई और उपयोग करे.
  • वो तो सहद को अपने भोजन के लिये तैयार करती है लेकिन वो सहद दवा के रुप मे भोजन के रुप हम इंसान उपयोग करते है॥ 
  • यानि अंजाने मे मधुमक्खिया बहुत से लोगो का भला कर देती है।
  • इसलिये जब भी आपको मौका मिले आप लोग मदद करे उनकी जिनको आपकी मदद की जरुरत हो 
  • क्या पता आपकी मदद उनकि जिंदगी सवार दे। 
  • आने वाले होली के त्योहार मे आप लोग जितने भी लोगो कि मदद कर सके जरुर करे॥


मेरी क्या हस्ती जो मै किसी को कुछ दु 
रब ने जो दिया है उसी का कुछ हिस्सा दुसरो मे  बाट दु...

इसी सोच के साथ आने वाले त्योहार को मनाये.....

2 comments: